भारत –नेपाल सहयोग | जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय | भारत सरकार

You are here

मुख्‍य पृष्‍ठ अंतरराष्ट्रीय सहयोग पड़ोसी देशों से द्विपक्षीय सहयोग भारत –नेपाल सहयोग

भारत –नेपाल सहयोग

1.0      पंचेश्‍वर बहुउद्देशीय परियोजना:

भारत और नेपाल ने फरवरी, 1996 में महाकाली संधि नामक एक संधि किया था। पंचेश्‍वर बहुउद्देशीय परियोजना का कार्यान्‍वयन महाकाली संधि का केन्‍द्र है। पंचेश्‍वर बहुउद्देश्‍यीय परियोजना के लिए अपेक्षित क्षेत्र जांच वर्ष 2002 में संयुक्‍त परियोजना कार्यालय (जेपीओ-पीआई) द्वारा पूरा किया गया है (कुछ प्रमाणिक परीक्षणों को छोड़कर) । किंतु पंचेश्‍वर परियोजना के परस्‍पर स्‍वीकार्य डीपीआर को अभी भी अंतिम रूप दिया जाना है।

पंचेश्‍वर विकास प्राधिकरण के गठन को पहले ही अधिसूचित कर दिया गया है। इसके लिए अधिसूचना लिंक को देखें।

2.0     सप्‍त -कोसी उच्‍च बांध परियोजना और सुन कोसी भंडारण सह विपथन योजना

जून, 2004 में दोनों सरकारों के बीच समझौता पत्रों के आदान-प्रदान के बाद अगस्‍त, 2004 में नेपाल में बराकक्षेत्र में सप्‍त कोसी उच्‍च बांध परियोजना के लिए डीपीआर की तैयारी के लिए विस्‍तृत क्षेत्र जांच करने के लिए एक संयुक्‍त परियोजना कार्यालय (जेपीओ) की स्‍थापना की गयी थी। डीपीआर प्रगति पर है।

3.0     कमला और बागमती बहुउद्देशीय परियोजनाएं

जेपीओ – एसकेएसकेआई को कमला बांध की व्‍यवहार्यता का अध्‍ययन करने और बागमती बांध परियोजनाओं के प्रारंभिक अध्‍ययन करने का कार्य भी सौंपा गया है। ये अध्‍ययन प्रगति पर हैं।

4.0    करनाली बहु उद्देशीय परियोजना और इसकी वर्तमान स्‍थिति

डीपीआर और अन्‍य मुद्दों पर चर्चा/ अंतिम रूप देने का कार्य शीघ्र किया जाएगा।