जल संसाधन सूचना प्रणाली का विकास (आर एम आई एस से भिन्न) | जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय | भारत सरकार

You are here

मुख्‍य पृष्‍ठ स्‍कीम कार्यक्रम परियोजना स्‍कीम जल संसाधन सूचना प्रणाली का विकास (आर एम आई एस से भिन्न)

जल संसाधन सूचना प्रणाली का विकास (आर एम आई एस से भिन्न)

देश में डाटा बेस बनाना और वेब आधारित जल संसाधन सूचना प्रणाली का कार्यान्वयन' परियोजना जिसका संक्षिप्त नाम इंडिया-डब्ल्यूआरआईएस 'वेब जिस' केन्द्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी), जल संसाधन मंत्रालय, भारत सरकार तथा भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो), अंतरिक्ष विभाग, भारत सरकार का एक संयुक्त उद्यम है जो दो विभागों के बीच चार वर्षों-जनवरी, 2009 से दिसम्बर, 2012 और जिसे दिसम्बर, 2015 तक बढ़ा दिया गया है, के लिए दिनांक 3 दिसम्बर, 2008 को हस्ताक्षरित समझौता-ज्ञापन (एमओयू) के अनुसार है।

इंडिया डब्ल्यूआरआईएस 'वेब जिस' का लक्ष्य समेकित जल संसाधन प्रबंधन (आईडब्ल्यूआरएम) के आकलन निगरानी, आयोजना और विकास हेतु डाटा की खोज, पहुंच, संकल्पना, समझ और विश्लेषण के एक मानकीकृत राष्ट्रीय जीआईएस फ्रेमवर्क (डब्ल्यूजीएस-84 डेटुम एंड एलसीसी प्रोडोक्शन) उपकरण में संगत प्राकृतिक संसाधनों के साथ भारत के जल संसाधनों का एक व्यापक, प्रामाणिक और सतत डाटा और सूचना देने हेतु एक 'सिंगल विंडो' समाधान है।

पोर्टल में डाटा संग्रहण, सृजन और प्रस्तुतीकरण एक निरन्तर प्रक्रिया है। इंडिया-डब्ल्यूआरआईएस 'वेब जिस' का वर्तमान वर्जन (वर्जन 4.1) की जुलाई, 2015 तक संग्रहीत डाटा के अनुसार दैशिक स्तर और गुण हैं। विशेष डाटा को और अद्यतन बनाने तथा उसे प्रस्तुत करने का काम इंडिया-डब्ल्यूआरआईएस प्रोजेक्ट टीम द्वारा किया जा रहा है। ये डाटा संबंधित राज्य सरकार के विभागों, सीडब्ल्यूसी कार्यालयों तथा भारत सरकार के विभागों से एकत्र किए जाते हैं और इस पोर्टल पर संगठित किए जाते हैं।

डाटा की पद्धति और उसकी उपलब्धता के आधार पर वर्तमान पोर्टल में 12 मुख्य सूचना प्रणालियां, 35 उप-सूचना प्रणालियां जिनमें 95 दैशिक स्तर तथा जल संसाधन परिसंपत्तियां का बृहत विशिष्ट डाटा और 5-100 वर्षों का सांसारिक डाटा होता है। राष्ट्रीय मानचित्र नीति (2005) और सीडब्ल्यूसी डाटा प्रसार नीति के आधार पर पोर्टल के दो वर्जन हैं। पब्लिक डोमेन वर्जन दोनों नीति दिशानिर्देशों के अनुरूप है।

इंडिया-डब्ल्यूआरआईएस 'वेब जिस' पोर्टल (वर्जन 4.1) को विभिन्न प्रकार के प्रयोक्तओं और उनकी जरूरतों को देखते हुए डिजाइन किया गया है। बाएं पैनल पर इसके छह मुख्य खंड हैं जैसे- डब्ल्यूआरआईएस इंफो डिस्कवरी, डब्ल्यूआरआईएस एक्सप्लोरर, डब्ल्यूआरआईएस कनेक्ट, शेयर एक्सेस स्टोरीज, वाटर रिसोर्स प्लानिंग और मैनेजमेंट एंड इनपुट डाटा बिल्डर।

अगले वर्जन में 3डी जियो-विजुअलाइजेशन, डायरेक्ट लिंक टू करेंट हाइड्रोमेट आबजरवेशंस, हाइड्रोलॉजी टूल फॉर ऑनलाइन एनालिसिस और डब्ल्यूआरआईएस एजुकेशन जैसे मॉड्यूल होंगे।

प्रोजेक्ट वेबसाइट इंडिया-डब्ल्यूआरआईएफ 'वेब जिस' वर्जन 1.0, 2.0, 3.0 और 4.0 क्रमश : 10 दिसम्बर, 2009, 7 दिसम्बर, 2010, 22 मार्च, 2012, 4 दिसम्बर, 2012 और 28 मार्च, 2014 को आरंभ किए गए थे। तथापि, विद्यमान वर्जन 4.1 के दैशिक और सांसारिक कवरेज का अपडेशन एक सतत प्रक्रिया है और जनरेशन तथा तत्परता के आधार पर प्रयोक्ताओं को उपलब्ध कराया जाएगा।