फरक्का बैराज परियोजना | जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय | भारत सरकार

You are here

मुख्‍य पृष्‍ठ स्‍कीम कार्यक्रम परियोजना स्‍कीम फरक्का बैराज परियोजना

फरक्का बैराज परियोजना

फरक्का बैराज कोलकाता के लगभग 300 कि.मी. उत्तर में पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद और मालदा जिलों में स्थित है। यह देश का अपनी तरह का सबसे बडा बैराज है जिसकी 40000 क्यूसेक (1135 क्यूमेक) प्रवाह वाली एक फीडर नहर है जिसकी सतही चौड़ाई स्वेज नहर से भी अधिक है। फीडर नहर फरक्का बैराज के दाहिने तट पर अपस्ट्रीम से निकली है और फरक्का बैराज के 40 कि.मी. डाउनस्ट्रीम गंगा के दाहिने चैनल भागीरथी में गिरती है।

फरक्का बैराज परियोजना को इसके निम्नलिखित मुख्य घटकों निष्पादन, संचालन और अनुरक्षण तथा अन्य कार्यों का काम सौंपा गया है:-

  • रेल-सह-सड़क पुल के साथ गंगा नदी पर एक 2245 मी. लंबा बैराज, आवश्यक नदी प्रशिक्षण कार्य और दाहिने ओर एक हेड रेगुलेटर।
  • जांगीपुर में भागीरथी नदी पर एक 213 मी. लंबा बैराज और इसके अतिरिक्त एक नौवहन लॉक।
  • फरक्का बैराज के दाहिने तट पर स्थित हेड रेगुलेटर से शुरू होकर 1135 क्यूमेक (40,000 क्यूसेक) की जलक्षमता और 38.38 किमी. लंबी फीडर नहर। यह फीडर नहर राष्ट्रीय जलमार्ग सं.-1 का एक भाग है।
  • फरक्का और जांगीपुर में नौवहन अवसंरचनाएं जैसे- लॉक्स, लॉक चैनल, शेल्टर बेसिन, कंट्रोल टॉवर, नेवीगेशन लाइट्स तथा अन्य अवसंरचनाएं।
  • फरक्का बैराज के 33.79 कि.मी. बाएं और 7 कि.मी. दाएं एफलक्स बंध, और जांगीपुर बैराज के 16.31 कि.मी. बाएं एफलक्स बंध।
  • फीडर नहर पर दो सडक-सह-रेल पुल और दो सड़क पुल।
  • मुर्शिदाबाद और मालदा, दोनों जिलों में विभिन्न स्थानों पर अनेक रेगुलेटर।
  • फीडर नहर के आर डी 48.00 पर बागमारी साइफन।
  • बैराज की सुरक्षा के लिए आवश्यक कटावरोधी सुरक्षात्मक कार्य करने के लिए फरक्का बैराज परियोजना के कार्यक्षेत्र को अपस्ट्रीम में दिआरा सहित राजमहल (फरक्का बैराज से 40 किमी.) तक तथा डाउन स्ट्रीम में जलांगी (फरक्का बैराज से 80 किमी.) तक बढा दिया गया है।

फरक्का बैराज के महत्वपूर्ण कार्यकलाप:

  1. संचालन और अनुरक्षण:
    • फरक्का बैराज और हेड रेगुलेटर
    • फीडर नहर
    • फरक्का पर नौवहन लॉक
    • जांगीपुर बैराज
  2. बाढ़ बचाव कार्य
    • फरक्का और जांगीपुर पर बैराज के दोनों तटों पर चार गाइड बंधों का अनुरक्षण
    • एफलुक्स बंधों का अनुरक्षण
    • निरीक्षण रोड (34 कि.मी.) के साथ बायां एफलुक्स बंध तथा पागला, तूतियानाला, निमजाला, भागीरथीऔर कालिन्दरी में नदी पर कई रेगुलेटर।
    • दायां एफलुक्स बंध (10 कि.मी.)
    • नदी तटों की सुरक्षा हेतु फरक्का बैराज के अपस्ट्रीम तट तथा घनी आबादी वाले गांवों की सुरक्षा हेतु तटबंधो का सुरक्षा कार्य और तटबंध के पीछे संचार लाइन की सुरक्षा।
    • दाहिने तट पर फरक्का बैराज के डाउनस्ट्रीम बाढ़ /बचाव कार्य।
    • गंगा के दाहिने तट पर स्थित फाज़िलपुर में बाढ़ / बचाव कार्य।
  3. फरक्का बैराज परियोजना टाउनशिप का अनुरक्षण
    • रिहायशी और गैर-रिहायशी भवनों वाले फरक्का टाउनशिप तथा जांगीपुर (अहीरोन) और केजुरियाघाट में दो अन्य टाउनशिप का अनुरक्षण।
    • उच्चतम माध्यमिक विद्यालय का अनुरक्षण।
    • फरक्का बैराज परियोजना अस्पताल का अनुरक्षण।
  4. फेरी सेवाएं
    • फीडर नहर/ लॉक चैनल के विभिन्न स्थानों पर तटों के दोनों ओर रहने वाले ग्रामीणों के लिए संप्रेषण हेतु फेरी सेवा।